ताजा ख़बरेंदेशब्रेकिंग न्यूज़स्वास्थ्य

कर्नाटक सरकार ने ब्लैक फंगस के ईलाज में लिया फैसला, संक्रमण के पहले हफ्ते में ना दें स्टेरॉयड

देश में ब्लैक फंगस का कहर बढ़ता ही जा रहा है जो की थमने का नाम ही नहीं ले रहा। ब्लैक फंगस यानी म्यूकरमाइकोसिस के बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार इसके इलाज में अहम एंफोटेरिसिन-बी की उपलब्धता को बढ़ाने में जुट गई है। वहीं, राज्‍य सरकारें भी बीमारी को रोकने की दिशा में काम कर रही हैं। ब्लैक फंगस के बढ़ते मामलों को देखते हुए कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. के सुधाकर ने सूबे के डॉक्टरों को कोरोना संक्रमण के पहले हफ्ते में मरीजों को दी जा रही स्टेरॉयड को ना देने का सुझाव दिया।

कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. के सुधाकर ने कहा कि ब्लैक फंगस से निपटने के लिए राज्य सरकार ने हर जिला अस्पताल में पोस्ट कोविड केयर वार्ड स्थापित करने जा रही है। इस बारे में निर्णय ले लिया गया है। इस बीमारी को लेकर विशेषज्ञों से व्यपाक चर्चा हुई है, जिसके बाद हमारी समझ बिल्कुल स्पष्ट हो गई है। सरकार ने डॉक्टरों से संक्रमण के पहले हफ्ते में मरीजों को स्टेरॉयड नहीं देने की गुजारिश की है।

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि चिकित्‍सकों से बोला गया है कि स्‍टेरॉयड का इस्‍तेमाल दूसरे हफ्ते में ही किया जाए। विशेषज्ञों का मानना है कि अनियंत्रित शुगर वाले मरीजों को स्टेरॉयड देने से उनका मधुमेह और बढ़ जाता है। इस वजह से ब्लैक फंगस का खतरा मधुमेह मरीजों के लिए बढ़कर मुसीबत बन जाती है। कर्नाटक में ब्लैक फंगस के अब तक 481 मामले सामने आ चुके हैं। वहीं, देश में ब्लैक फंगस के 8,848 से ज्‍यादा केस सामने आ चुके हैं।

Related Articles

Back to top button
Close
Close